Karva chauth

Karva chauth

करवा चौथ अथवा करक चतुर्थी पति व पत्नी दोनों के लिए नव प्रणय निवेदन और एक दुसरे के प्रति  अपार प्रेम, त्याग एवं उत्सर्ग की चेतना लेकर आता हैं | इस दिन स्त्रिया पूर्ण सुहागिन का रूप धारण कर वस्त्र, आभूषण को पहनकर चंद्र देव से अपने अखंड सुहाग की प्रार्थना करती हैं |

भारतीय हिन्दू स्त्रियो के लिए “करवाचौथ” का व्रत अखंड सुहाग को देने वाला माना जाता हैं| विवाहित स्त्रियाँ इस दिन अपने पति की दीर्घायु एवं स्वस्थ की मंगल कामना करके भगवान चंद्र को अर्द्ध अर्पित कर व्रत पूर्ण करती हैं|

Karvachauth

शरद पूर्णिमा के तीन दिन बाद आने वाला यह  मांगलिक पर्व “करवा चौथ” परिवारों में एक अपूर्व उल्लास व आत्मीयता भर देता हैं|

इसी प्रकार कही कही पहले चंद्रमा का प्रतिबिम्ब महिलायें पानी भरी थाली में देखती हैं और फ़िर उसी थाली में पति के चेहरे का प्रतिबिम्ब देखती हैं | कही छलनी से पति दर्शन का रिवाज़ हैं तो कही पति की आरती उतारी जाती हैं |

इस पर्व को मनाने की हर प्रदेश की कुछ अपनी परंपराए व पकवान हैं | पंजाब में फीकी व मीठी मठ्ठिया लेने देने का रिवाज़ हैं | राजस्थान में फीणी का चलन हैं | उत्तर प्रदेश में घर में ही पुए बनाने का रिवाज़ हैं |

Leave a Reply